बवासीर में रबर बैंड (रबर के छल्ले) लिगेशन : एक प्रभावी उपचार विकल्प

बवासीर में रबर बैंड (रबर के छल्ले) लिगेशन : एक प्रभावी उपचार विकल्प

  • Home
  • -
  • Piles News
  • -
  • बवासीर में रबर बैंड (रबर के छल्ले) लिगेशन : एक प्रभावी उपचार विकल्प

हेमोर्रोइड्स, जिन्हें आमतौर पर पाइल्स के रूप में जाना जाता है, उनसे पीड़ित लोगों के लिए असुविधा और दर्द का कारण बन सकते हैं। जबकि इसके उपचार के विभिन्न विकल्प उपलब्ध हैं, एक लोकप्रिय और प्रभावी विधि रबर बैंड लिगेशन है। इस ब्लॉग पोस्ट में, हम यह जानेंगे कि रबर बैंड लिगेशन क्या है, यह कैसे काम करता है, और इसके प्रोस और कॉन्स क्या हैं।

हेमोर्रोइड्स क्या हैं?

हेमोर्रोइड्स मलद्वार के आसपास या उसमें सूजन वाली नसें होती हैं। ये सूजन वाले टिशू खिंचाव और दबाव से प्रभावित हो सकते हैं, जिससे पाइल्स की समस्या होती है, जो चलने, बैठने, या मल त्यागते समय असुविधा और दर्द का कारण बन सकती है।

रबर बैंड लिगेशन क्या है?

रबर बैंड लिगेशन एक बिना चीर फाड वाली प्रक्रिया है जिसका उपयोग आंतरिक हेमोर्रोइड्स के उपचार के लिए किया जाता है। इसमें हेमोर्रोइड के आधार पर एक छोटे रबर बैंड को लगाना शामिल है, जो इसकी रक्त आपूर्ति को काट देता है। समय के साथ, हेमोर्रोइड सिकुड़ता है और आमतौर पर एक से दो सप्ताह के भीतर गिर जाता है। यह प्रक्रिया आमतौर पर एक डॉक्टर के कार्यालय या बाह्य रोगी क्लिनिक में की जाती है।

रबर बैंड लिगेशन कैसे कार्य करता है?

रबर बैंड लिगेशन की प्रक्रिया अपेक्षाकृत सरल और सीधी है। यहाँ इस प्रक्रिया का एक अवलोकन है:

  1. तैयारी: मरीज को आरामदायक तरीके से टेबल पर लेटाया जाता है, आमतौर पर उनके पक्ष में लेटा हुआ या टेबल पर झुका हुआ। डॉक्टर द्वारा दर्द और असुविधा को कम करने के लिए स्थानीय संज्ञाहरण दिया जा सकता है।
  2. रबर बैंड का प्लेसमेंट: एक विशेष उपकरण जिसे एनोस्कोप कहा जाता है का उपयोग करते हुए, डॉक्टर रेक्टम में एक छोटी ट्यूब डालता है ताकि हेमोर्रोइड को देख सके। फिर, हेमोर्रोइड के आधार पर एक रबर बैंड लगाया जाता है, जो रक्त प्रवाह को रोक देता है।
  3. लिगेशन के बाद का फॉलो-अप: रबर बैंड लगाने के बाद, मरीज को कठोरता या असुविधा की हल्की संवेदना का अनुभव हो सकता है। अगले कुछ दिनों या सप्ताहों में, हेमोर्रोइड सिकुड़ेगा और अंततः मल त्याग के दौरान गिर जाएगा।

रबर बैंड लिगेशन के फायदे

  1. प्रभावशीलता: रबर बैंड लिगेशन आंतरिक हेमोर्रोइड्स के लिए एक प्रभावी गैर-सर्जिकल उपचार माना जाता है। इसकी सफलता की दर लगभग 80-90% होती है, जब इसे ग्रेड 1 और ग्रेड 2 हेमोर्रोइड्स के उपचार के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
  2. न्यूनतम आक्रमण: यह प्रक्रिया न्यूनतम आक्रमणकारी होती है और इसे एक बाह्य रोगी सेटिंग में किया जा सकता है। इसमें सामान्य संज्ञाहरण की आवश्यकता नहीं होती है, और अधिकांश रोगी प्रक्रिया के बाद जल्द ही घर जा सकते हैं।
  3. तेजी से रिकवरी: रबर बैंड लिगेशन में हेमोर्रोइडेक्टॉमी जैसी सर्जिकल प्रक्रियाओं की तुलना में तेजी से रिकवरी होती है। अधिकांश रोगी एक या दो दिनों के भीतर अपने सामान्य क्रियाकलापों को फिर से शुरू कर सकते हैं।
  4. कम जटिलताओं का जोखिम: रबर बैंड लिगेशन एक सुरक्षित प्रक्रिया है जिसमें संक्रमण या अत्यधिक रक्तस्राव जैसी गंभीर जटिलताओं का कम जोखिम होता है।
  5. लागत प्रभावशीलता: रबर बैंड लिगेशन आमतौर पर सर्जिकल हस्तक्षेपों की तुलना में अधिक लागत प्रभावी होता है, जिससे यह सीमित वित्तीय संसाधन वाले रोगियों के लिए एक आकर्षक विकल्प बनता है।

रबर बैंड लिगेशन के नुकसान

रबर बैंड लिगेशन आंतरिक हेमोराइड्स के इलाज के लिए एक प्रचलित और प्रभावी उपचार विकल्प है। यह प्रक्रिया सरल, कम खर्चीली और जल्दी ठीक होने की क्षमता के कारण लोकप्रिय है। हालांकि, किसी भी चिकित्सीय हस्तक्षेप की भांति, इस प्रक्रिया के भी कुछ संभावित दुष्परिणाम हो सकते हैं। नीचे कुछ मुख्य दुष्परिणामों का विवरण दिया गया है।

  1. अस्थायी असुविधा: कुछ रोगियों को प्रक्रिया के दौरान और उसके बाद मामूली दर्द या असुविधा का अनुभव हो सकता है। यह असुविधा सामान्यतः अस्थायी होती है और दर्द निवारक दवाओं के माध्यम से प्रबंधनीय होती है।
  2. पुनरावृत्ति की संभावना: जबकि रबर बैंड लिगेशन आंतरिक हेमोराइड्स के इलाज में कारगर होती है, भविष्य में नए हेमोराइड्स के विकास की एक छोटी संभावना बनी रहती है। इससे अतिरिक्त उपचार की आवश्यकता हो सकती है।
  3. सीमित प्रयोज्यता: रबर बैंड लिगेशन ग्रेड 1 और ग्रेड 2 आंतरिक हेमोराइड्स के इलाज के लिए सबसे उपयुक्त होती है। अधिक गंभीर मामलों या बाह्य हेमोराइड्स के लिए, अलग उपचार विकल्पों की आवश्यकता हो सकती है।
  4. सभी के लिए नहीं: कुछ चिकित्सीय स्थितियाँ वाले मरीजों या रक्त पतला करने वाली दवा लेने वाले व्यक्तियों के लिए रबर बैंड लिगेशन अनुशंसित नहीं होती। इस प्रक्रिया की उपयुक्तता निर्धारित करने के लिए स्वास्थ्य सेवा पेशेवर से परामर्श आवश्यक है।
  5. बैंड का फिसलना: कुछ मामलों में, मल त्याग के दौरान बैंड फिसल सकता है, जिससे पुनः प्रयोग की आवश्यकता होती है। यह स्थिति असुविधाजनक हो सकती है और अतिरिक्त चिकित्सीय हस्तक्षेप की मांग कर सकती है।

निष्कर्ष

रबर बैंड लिगेशन आंतरिक हेमोराइड्स के इलाज के लिए एक प्रभावी और व्यापक रूप से उपयोग किया जाने वाला उपचार विकल्प है। इसमें उच्च सफलता दर, न्यून इनवेसिवनेस, त्वरित रिकवरी, और लागत प्रभावी होने के फायदे होते हैं। हालांकि इसके कुछ संभावित दुष्परिणाम भी हैं जैसे कि अस्थायी दर्द और पुनरावृत्ति की छोटी संभावना, लेकिन इस प्रकिया के फायदे इसके संभावित नुकसानों से अधिक होते हैं। यदि आप हेमोराइड के लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं, तो यह निर्धारित करने के लिए कि रबर बैंड लिगेशन आपके लिए सही उपचार विकल्प है या नहीं, स्वास्थ्य सेवा पेशेवर से परामर्श करें।

ध्यान दें, यह ब्लॉग पोस्ट केवल जानकारीपूर्ण उद्देश्यों के लिए है और व्यावसायिक चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है। सही निदान और उपचार की सिफारिशों के लिए हमेशा योग्य स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने वाले से परामर्श करें। आप मोहाली, चंडीगढ में स्थित अरोग्यम पाइल्स क्लिनिक एंड रिसर्च सेंटर के विशेषज्ञ डॉक्टरों से परामर्श ले सकते। अपॉइंटमेंट के लिए वेबसाइट www.arogyampilesclinic.com पर जाकर या सीधा +91 96467 64444 पर काल करके बुक कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × 5 =