बवासीर से बचने के लिए शौचालय का सही प्रयोग कैसे करें: अरोग्यम पाइल्स क्लिनिक एंड रिसर्च सेंटर, मोहाली, चंडीगढ

बवासीर से बचने के लिए शौचालय का सही प्रयोग कैसे करें: अरोग्यम पाइल्स क्लिनिक एंड रिसर्च सेंटर, मोहाली, चंडीगढ

  • Home
  • -
  • Piles News
  • -
  • बवासीर से बचने के लिए शौचालय का सही प्रयोग कैसे करें: अरोग्यम पाइल्स क्लिनिक एंड रिसर्च सेंटर, मोहाली, चंडीगढ

आरोग्य और स्वास्थ्य की बात आते ही, शौचालय की सही आदतें बेहद महत्वपूर्ण हो जाती हैं। कई व्यक्तियों को प्रभावित करने वाली एक सामान्य समस्या बवासीर का विकास है, जो असुविधा, दर्द, खुजली और रक्तस्राव का कारण बन सकती है, जिससे व्यक्ति की जीवन गुणवत्ता पर काफी प्रभाव पड़ता है। मोहाली, चंडीगढ़ में स्थित अरोग्यम पाइल्स क्लिनिक एंड रिसर्च सेंटर द्वारा प्रदत्त जानकारी के अनुसार, शौचालय का सही उपयोग करके बवासीर के विकास और कमज़ोरी से बचने के तरीकों के बारे में जानेंगे।

बवासीर के कारण और लक्षण

बवासीर गुदा क्षेत्र में सूजी हुई रक्त वाहिकाएं होती हैं, जो आंतरिक या बाहरी हो सकती हैं। इसके विकास के कई कारण हैं जैसे कि पुरानी कब्ज, शौचालय पर लंबे समय तक बैठे रहना, मल त्याग के दौरान जोर लगाना, मोटापा, और एक निष्क्रिय जीवनशैली। गंभीर मामलों में चिकित्सकीय हस्तक्षेप आवश्यक हो सकता है, लेकिन अपनी शौचालय की आदतों में सरल परिवर्तन करके बवासीर के विकास या बिगड़ने से बचा जा सकता है।

अरोग्यम पाइल्स क्लिनिक एंड रिसर्च सेंटर की सलाह

  1. नियमित आंत्र क्रिया बनाए रखने के तरीके : मल त्याग के दौरान जोर न देने के लिए नियमितता बनाए रखना महत्वपूर्ण है। फल, सब्जियां, संपूर्ण अनाज, और फलियों सहित फाइबर-युक्त आहार का सेवन करें। पर्याप्त फाइबर सेवन से मल सॉफ्ट और भारी होता है, जिससे जोर लगाने की आवश्यकता कम होती है। पर्याप्त पानी पीएं और हाइड्रेटेड रहें ताकि कब्ज से बचा जा सके।
  2. शौचालय पर लंबे समय तक बैठने से बचें : शौचालय पर लंबे समय तक बैठना गुदा क्षेत्र पर दबाव बढ़ा सकता है और बवासीर के विकास में योगदान कर सकता है। शौचालय पर अपने समय को सीमित करें और अनावश्यक जोर लगाने से बचें। अगर कुछ मिनटों के भीतर मल त्याग में कठिनाई हो, तो आपको अपने आहार और जीवनशैली की पसंदों को फिर से देखना चाहिए ताकि किसी भी अंतर्निहित मुद्दों को संबोधित किया जा सके।
  3. सही शौच मुद्रा अपनाएं : अरोग्यम पाइल्स क्लिनिक का सुझाव है कि मल त्याग के दौरान उकड़ू स्थिति का उपयोग करें। यह स्थिति, जिसे जमीन पर उकड़ू बैठने के समान माना जाता है, मलद्वार और गुदा मार्ग को सीधा कर देती है, जिससे मल का आसानी से निकास होता है। मल त्याग के समय उकड़ू स्थिति अपनाने के लिए, आप एक स्टूल या मंच पर अपने पैरों को रखकर, शौचालय पर बैठे समय उकड़ू स्थिति का अनुकरण कर सकते हैं।
  4. कोमलता से सफाई करें : मल त्याग के बाद, गुदा क्षेत्र की सफाई कोमलता से करना आवश्यक है। कठोर पोंछने या खुरदरे टॉयलेट पेपर का उपयोग संवेदनशील ऊतकों को जलन पहुंचा सकता है और मौजूदा बवासीर को बदतर बना सकता है। संवेदनशील त्वचा के लिए विशेष रूप से डिज़ाइन किए गए गीले पोंछे का उपयोग करें या नरम, बेसुगंध टॉयलेट पेपर का विकल्प चुनें। इलाके को रगड़ने के बजाय सुखाना भी जलन से बचने में मदद कर सकता है।
  5. व्यक्तिगत स्वच्छता बनाए रखें : संक्रमणों और अधिक असुविधा से बचने के लिए उचित व्यक्तिगत स्वच्छता बनाए रखना अत्यंत महत्वपूर्ण है। प्रत्येक मल त्याग के बाद, माइल्ड, बेसुगंध साबुन और गर्म पानी का उपयोग करके गुदा क्षेत्र को साफ करें। कठोर साबुनों, सुगंधित उत्पादों, या अधिक रगड़ने का उपयोग न करें, क्योंकि ये स्थिति को बिगाड़ सकते हैं।
  6. नियमित व्यायाम के फायदे : तेज़ चलना या मध्यम-तीव्रता का व्यायाम आंत्र क्रियाओं को नियमित रखने और समग्र पाचन स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद करता है। व्यायाम, रक्त संचार में सुधार, कब्ज के जोखिम को कम करने, और एक स्वस्थ वजन बनाए रखने में मदद करता है, जो सभी बवासीर से बचाव में योगदान देते हैं।
  7. पेशेवर मार्गदर्शन कब लेना चाहिए : यदि आप बवासीर के निरंतर या गंभीर लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं, तो स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से परामर्श करना या आरोग्यम पाइल्स क्लिनिक और रिसर्च सेंटर जैसे विशेषज्ञ क्लिनिक का दौरा करना उचित होता है। वे सटीक निदान, वैयक्तिकृत उपचार विकल्प प्रदान कर सकते हैं, और आपको इष्टतम शौचालय आदतें बनाए रखने के बारे में मार्गदर्शन दे सकते हैं।

निष्कर्ष

बवासीर के विकास या विकास को रोकने के लिए स्वस्थ शौचालय आदतों को अपनाना और सरल जीवनशैली में सुधार करना आवश्यक है। नियमित मल त्याग, शौचालय पर लंबे समय तक न बैठना, सही मुद्रा अपनाना, कोमलता से सफाई करना, व्यक्तिगत स्वच्छता बनाए रखना, नियमित रूप से व्यायाम करना, और जरूरत पड़ने पर पेशेवर मार्गदर्शन लेना, आप बवासीर के जोखिम को काफी कम कर सकते हैं और बेहतर समग्र पाचन स्वास्थ्य का आनंद ले सकते हैं। याद रखें, आपकी दैनिक दिनचर्या में छोटे परिवर्तन आपके कल्याण के समर्थन में दूरगामी प्रभाव डाल सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

12 − 3 =