यदि गुदा विदर (एनल फिशर) का समय रहते उपचार न किया जाए तो क्या होगा?

यदि गुदा विदर (एनल फिशर) का समय रहते उपचार न किया जाए तो क्या होगा?

  • Home
  • -
  • Piles News
  • -
  • यदि गुदा विदर (एनल फिशर) का समय रहते उपचार न किया जाए तो क्या होगा?


गुदा विदर उन लोगों के लिए काफी दर्दनाक और असुविधाजनक अनुभव हो सकता है जो इससे पीड़ित हैं। यह गुदा के अंदर एक चीरा है जोकि अक्सर दर्दनाक मल त्याग, रक्तस्राव, खुजली और जलन जैसे लक्षणों के साथ होता है। गुदा विदर के कारण अलग-अलग हो सकते हैं, जिनमें कठोर और भारी मल त्यागना, दस्त और यहां तक कि कुछ यौन संचारित रोग जैसे कारक भी योगदान दे सकते हैं। दिलचस्प बात यह है कि चंडीगढ़ में गुदारोग विशेषज्ञ ने देखा है कि युवा आबादी, विशेष रूप से 20 से 40 वर्ष की आयु के लोगों में गुदा विदर विकसित होने की अधिक संभावना है। गुदा विदर पर हमारे गुदारोग विशेषज्ञ, डॉ. विनय, आरोग्यम पाइल्स क्लिनिक एवम रिसर्च सेंटर, मोहाली, चंडीगढ़ से, उन संभावित जटिलताओं पर प्रकाश डालेंगे जो गुदा विदर को अनुपचारित छोड़ने से उत्पन्न हो सकती हैं। हालाँकि ये चीरे पहले छोटे और असानी से ठीक होने वाले होते हैं, लेकिन इनके ईलाज की उपेक्षा करने से आगे चलकर और अधिक गंभीर समस्याएँ हो जाती हैं। किसी भी अन्य जटिलता को उत्पन्न होने से रोकने के लिए गुदा विदर के लिए उचित उपचार लेना महत्वपूर्ण है।


दर्द:- गुदा विदर से पीड़ित व्यक्तियों को अक्सर मल त्याग के दौरान दर्द का अनुभव होने का लगातार डर बना रहता है, जिसके कारण वे शौचालय जाने से बचते हैं। इस स्थिति से जुड़ा तीव्र दर्द दैनिक जीवन पर हानिकारक प्रभाव डालता है, जिससे दैनिक गतिविधियों को करने में मुश्किल होती है। इसके परिणामस्वरूप जीवन की गुणवत्ता प्रभावित होती है।


क्रोनिक फिशर :- जब गुदा फिशर का इलाज नहीं किया जाता है, तो वे एक क्रोनिक स्थिति में प्रगति कर सकते हैं जहां फिशर के किनारे कठोर हो जाते हैं। क्रोनिक फिशर से सेंटिनल पाइल्स का विकास होता है, जो गुदा के किनारे पर बाहर की ओर लटकी हुई वृद्धि होती है, और विदर के अंदरूनी हिस्से पर हाइपरट्रॉफाइड पैपिला बन जाता है। समय बीतने के साथ मूल घाव भी चौड़ा और गहरा हो सकता है। इन विकासों के परिणामस्वरूप, ऐसी गुदा दरारों की उपचार प्रक्रिया जटिल हो जाती है।


फिस्टुला (भगंदर ) का बन जाना:- दैनिक मल त्याग के कारण गुदा विदर का लगातार दूषित होना सूक्ष्मजीवों के पनपने और फैलने के लिए अनुकूल वातावरण बनाता है। यह लगातार परिदृश्य अक्सर गुदा विदर के संक्रमण का कारण बनता है। यदि उपचार न किया जाए, तो यह संक्रमण बढ़ सकता है, ऊतकों के माध्यम से फैल सकता है और अंततः गुदा फिस्टुला (भगंदर) बन सकता है। इसकी जटिल प्रकृति के कारण गुदा फिस्टुला से निपटना एक महत्वपूर्ण चुनौती है, जिससे यह एक ऐसी स्थिति बन जाती है जिसे प्रभावी ढंग से हल करने के लिए सावधानीपूर्वक और विशेष उपचार की आवश्यकता होती है।


गुदा कैंसर का खतरा:- जबकि दरारों से गुदा कैंसर विकसित होने का जोखिम अपेक्षाकृत कम है, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि गुदा दरारों से जुड़ी पुरानी सूजन, जो लालिमा कैंसर के विकास की संभावना को बढ़ा सकती है। इसलिये भविष्य में किसी भी संभावित जटिलताओं को रोकने के लिए उचित चिकित्सा सहायता लेना महत्वपूर्ण है।


निष्कर्ष:- गुदा विदर (एनल फिशर) के लिए उचित उपचार लेने की उपेक्षा करने से जटिलताएं विकसित होने का खतरा काफी बढ़ सकता है। शोध से पता चलता है कि जो व्यक्ति गुदा विदर को संबोधित करने में देरी करते हैं, उन्हें अधिक गंभीर मामलों का अनुभव होता है। यदि आप मोहाली, चंडीगढ़ में एनल फिशर (गुदा विदर) के लिए बिना ऑपरेशन उपचार विकल्पों की तलाश कर रहे हैं, तो क्षेत्र में हमारे अनुभवी एनल फिशर विशेषज्ञ के साथ अपॉइंटमेंट लेने में संकोच न करें। उपचार की दिशा में पहला कदम उठाएं और आज ही अपना परामर्श बुक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seven − 3 =